राजनीति

राहुल गांधी ने झूठ बोला कि प्रधान मंत्री मोदी ने भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) रिजर्व से 1.30 लाख करोड़ रुपये की मांग की थी?

446 Shares

5 नवंबर को जब राष्ट्र परमाणु पनडुब्बी आईएनएस अरिहंत के पहले निवारण गश्ती का जश्न मना रहा था, कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी हमेशा की तरह ऐसे दावे कर रहे थे जिसपे विश्वास करना मुश्किल था। उन्होंने कहा की “प्रधान मंत्री को 36,00,00,00,00,000 रुपये की अपने प्रतिभाशाली आर्थिक सिद्धांतों के गड़बड़ी को ठीक करने के लिए आरबीआई से जरूरत है। श्रीमान पटेल खड़े हो जाओ। राष्ट्र की रक्षा करें”।

राहुल गांधी के इस बयान का पालन करते हुए कुछ वेबसाइटों ने मोदी सरकार पर हमला बोल दिया था। कुछ ने मोदी सरकार पर सवाल भी उठाये कि प्रधान मंत्री मोदी को इतनी बड़ी राशि क्यों चाहिए और कुछ अन्य ने प्रचार करना शुरू कर दिया कि यह भारत में अब तक का सबसे बड़ा घोटाला है।

लेकिन अब आर्थिक मामलों के सचिव सुभाष चंद्र गर्ग द्वारा दिए गए बयान के बाद राहुल गांधी का दावा झूठा साबित हुआ। श्री गर्ग ने ट्वीट की एक श्रृंखला में कहा, “मीडिया में बहुत गलत सूचनाएं चल रही हैं। सरकार का राजकोषीय गणित पूरी तरह से ट्रैक पर है।

आरबीआई से 3.6 या 1 लाख करोड़ रुपये स्थानांतरित करने का कोई प्रस्ताव नहीं है। अनुमान लगाया गया है वित्त वर्ष 2013-14 में सरकार का फिस्कल डेफिसिट 5.1% था। 2014-15 से, सरकार इसे काफी हद तक कम करने में सफल रही है। हम वित्त वर्ष 2018-19 को फिस्कल डेफिसिट 3.3 % के साथ खत्म करेंगे| सरकार ने वास्तव में इस साल 70000 करोड़ रुपये के बजट उधार लेने का प्रस्ताव दिया है। केवल प्रस्ताव चर्चा के तहत आरबीआई के उचित आर्थिक पूंजी ढांचे को ठीक करना है “।

आर्थिक मामलों के सचिव सुभाष चंद्र गर्ग के रहस्योद्घाटन ने न सिर्फ यह स्पष्ट किया है कि मोदी सरकार ने रिजर्व बैंक से कोई मांग नहीं की है बल्कि यह भी साबित कर दिया है कि भारतीय अर्थव्यवस्था सही रास्ते पर चल रही है।

पिछले कुछ महीनों में कई वैश्विक रिपोर्टों से पता चला है कि भले ही चीन सहित पूरी दुनिया को वित्तीय संकट का सामना करना पड़ रहा है, इस वक़्त केवल भारत ही प्रधान मंत्री मोदी ने नेतृत्व में मजबूत शो का प्रदर्शन कर रहा है।हाल के दिनों में राहुल गांधी ने अपनी छवि को उभारने के लिए झूठ का सहारा लिया है| उनका पिछला बड़ा झूठ राफेल सौदे पर था। अब मोदी सरकार के दो मुख्य कार्य हैं; एक अपने विकास कार्यों का विपणन करना है और दूसरा राहुल गाँधी के झूठ के खिलाफ लोगों के बीच जागरूकता पैदा करना है।

446 Shares
Tags

Related Articles

FOR DAILY ALERTS
 
FOR DAILY ALERTS
 
Close