देशभक्तिसैन्य सुरक्षा

इसरो के पूर्व अध्यक्ष जी माधवन नायर ने किया खुलासा! नायर ने कहा कि भारत के पास एक दशक से उपग्रह मिसाइल क्षमता थी लेकिन इसे प्रदर्शित करने के लिए राजनीतिक इच्छाशक्ति नहीं थी

कल भारत के लिए न भूलने वाला दिन था। भारतीय हमेशा इस गर्व के क्षण को याद रखेंगे। अमेरिका, रूस और चीन के बाद अब भारत ने भी स्पेस सुपर लीग में प्रवेश कर लिया है|

एक एंटी-सैटेलाइट हथियार ए-सैट ने लगभग 300 किलोमीटर (185 मील) की दूरी पर लो ऑर्बिट सॅटॅलाइट कक्षा में एक जीवित उपग्रह को सफलतापूर्वक निशाना बनाया। मिशन को हमारे वैज्ञानिकों ने 3 मिनट के भीतर पूरा किया।

क्षमता के साथ-साथ एक महत्वपूर्ण मिशन को पूरा करने के लिए राजनीतिक इच्छाशक्ति की भी आवश्यकता होती है। और यह सब अगर संभव हो पाया है तो यह केवल प्रधान मंत्री मोदी और उनकी सरकार के कारण ही हो पाया है। क्योंकि पहले भी तकनीक थी, लेकिन तब सरकार में निर्णय लेने का साहस नहीं था|

वैज्ञानिकों को अनुमति नहीं दी गई क्योंकि कांग्रेस के नेतृत्व वाली यूपीए सरकार ने अंतरराष्ट्रीय दबाव के आगे घुटने टेक दिए। 2012 में प्रधान मंत्री मनमोहन सिंह के नेतृत्व वाली कांग्रेस सरकार के सामने भी यह योजना राखी गई थी, लेकिन कोई तब मंजूरी नहीं दी गई।

इसरो के पूर्व अध्यक्ष जी माधवन नायर ने भी इसका खुलासा किया है। नायर ने कहा है कि भारत के पास एक दशक से भी पहले उपग्रह मिसाइल की क्षमता थी लेकिन इसे प्रदर्शित करने के लिए उस समय कोई राजनीतिक इच्छाशक्ति नहीं थी।

उन्होंने ये भी कहा कि जब चीन ने 2007 में एक मिसाइल लॉन्च करके एजिंग मौसम उपग्रह को मार गिराया, तब भारत के पास एक समान मिशन शुरू करने की तकनीक थी, लेकिन कोई राजनीतिक इच्छाशक्ति और साहस नहीं था।

उन्होंने प्रधान मंत्री मोदी की प्रशंसा की और कहा कि यह मिशन केवल प्रधान मंत्री मोदी के साहस के कारण सफल हुआ है।

“प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदीजी ने पहल की है और उनके पास यह कहने की राजनीतिक इच्छाशक्ति और साहस है कि हम ऐसा करेंगे। हमने अब इसे पूरी दुनिया के सामने प्रदर्शित कर दिया है|

यहां तक ​​कि डीआरडीओ के पूर्व प्रमुख डॉ। वीके सारस्वत ने भी कहा है कि जब कांग्रेस की अगुवाई वाली यूपीए भारत में शासन कर रही थी, इस तरह की योजना प्रस्तावित की गयी थी, लेकिन उन्हें कोई सकारात्मक प्रतिक्रिया नहीं मिली। उन्होंने कहा, “यदि 2012-13 में मंजूरी दी जाती तो मुझे पूरा यकीन है कि लॉन्च 2014-15 में हो जाता।”

यह कांग्रेस पार्टी का असली चेहरा है जिसने देश को हमेशा दांव पर लगाया है और आगे नहीं बढ़ने दिया। कांग्रेस ने भारत को एक विश्व शक्ति और सुरक्षित राष्ट्र बनने से वंचित किया है। इसलिए समझदारी से अपना वोट डालें


Kashish

 

Tags

Related Articles

FOR DAILY ALERTS
 
FOR DAILY ALERTS
 
Close