राजनीति

भारत के इतिहास के बारे में फैलाए गये सबसे बड़े झूठ! जानिये क्या है सच?

भारत एक विशाल देश है| जितना विशाल देश है उतनी ही विशाल है देश की संस्कृति, देश का इतिहास| पर देश का दुर्भाग्य है कि कुछ इतिहासकारों ने पिछली सरकारों के साथ मिलकर ऐसी रणनीति की है कि उन्होंने हमारे इतिहास को तोड़ मरोड़ के पेश किया है| सच को बताने की बजाए उन्होंने झूठ का प्रचार करके हमारी संस्कृति, हमारे वीरों को नीचा दिखाने की कोशिश की है और देश को बांटने वाले देश द्रोही तत्वों को महान बना कर पेश किया है| आज मैं ऐसे ही फैलाये गये कुछ झूठे दावों से पर्दा उठा कर आप को उनके सच से रूबरू करवाने जा रहीं हूँ

झूठ – महात्मा गाँधी को तीन गोलियां लगने के बाद उन्होंने “जय श्री राम” कहा
सच – महात्मा गाँधी ने “जय श्री राम” नहीं कहा था बल्कि उनके मुख से “आह” की आवाज़ निकली थी

झूठ – नेहरु को छोटे बच्चों से बहुत प्यार था
सच – नेहरु को छोटे बच्चों से बिलकुल प्यार नहीं था बल्कि वः एक ऐसे व्यक्तित्व थे जिन्हें औरतों में बेहद दिलचस्पी थी

झूठ – दे दी हें आज़ादी बिना खड्ग बिना ढाल, साबरमती के संत तूने कर दिया कमाल
सच – सचाई ये है कि आज़ादी के लिए लाखों भारतीयों ने अपनी जान गवाई है तब जाकर देश को आज़ादी मिली है. 1857 से लेकर 1947 तक कुल 732,000 भारतीयों ने अपनी जान गवाई हैं

झूठ – नेहरु “ ऐ मेरे वतन के लोगों” गाना सुन कर फूट फूट कर रोया था
सच – सचाई ये है कि नेहरु ने चीन की मदद के लिए भारत में “ ऑर्डनेन्स फैक्ट्रियां” बंद करवा दी थी
उन्होंने संसद में अपने भाषण में कहा “ क्या फर्क पढ़ता है अगर चीन अक्साई चीन को ले लेगा, वः बिलकुल बंजर है, वहां घास का एक कतरा तक नहीं उगता है”

झूठ – अकबर महान है
सच – अकबर डरपोक था और महाराणा प्रताप से बेहद डरता था, इसलिए ही उसने हल्दीघाटी के युद्ध में हिस्सा नहीं लिया था
अकबर ने 23 फरवरी, 1568 को चितोड़ पर कब्ज़ा किया था| इतिहासकार अबुल फैज़ल और बदौनी के अनुसार उस वक़्त वहां किले में 22 हजार से 40 हज़ार के बीच बच्चे, बूढ़े और औरतें थी| अकबर ने उन सब को मारने का हुकुम दिया| ऐसा अकबर महान कैसे हो सकता है|

झूठ – मज़हब नहीं सिखाता आपस में बैर करना
सच – धर्म के नाम पर ही कश्मीरी हिन्दुओं को इस्लामिक आतंकियों ने कश्मीर से बहार निकाला| धर्म के नाम पर ही देश को बांटा गया| धर्म के नाम पर ही 3 मिलियन लोगों की हत्या की गयी|

झूठ – हिन्दू मुस्लिम सिख इसाई आपस में है भाई भाई
सच –भाई कभी भी गौ की हत्या नहीं करेगा और उसे खायेगा नहीं जिसे दूसरा भाई माँ की तरह पूजता है|कुरान में ऐसा नहीं लिखा है फिर भी ऐसा किया जाता है| अगर भाई होता तो कश्मीर से हिन्दुओं को बहार नहीं निकाला जाता|

झूठ – गंगा, यमुना तहज़ीब
सच –हकीकत तो ये है की गंगा और यमुना हिन्दू नदीयाँ है, यमुना इस्लामिक नदी नहीं है|

झूठ – गांधी जी अहिंसा के मार्ग प्रचारक है
सच –हकीकत तो ये है कि गांधी ने हिन्दु औरतों को मुसलामानों के अत्याचार सहने के लिए कहा, उन्होंने हिन्दुओं को मरने के लिए कहा अगर उन्हें मुस्लिम मारने आते हैं पर गाँधी ने मुसलमानों से कभी नहीं कहा कि वे अहिंसा के मार्ग पर न चलें और हिन्दुओं को न मारें

झूठ – पंडित जवाहर लाल नेहरु कश्मीरी ब्राह्मण है
सच – नेहरु घियास उद दिन घज़ी का प्रत्यक्ष वंशज है, जो कि एक अफ्घानी है| वो मुबारक अली से जुड़े हुए हैं| हकीकत में नेहरु कोई उपनाम है ही नहीं| घियास उद दिन घज़ी जो अंतिम मुगल सम्राट बहादुर शाह जफर का दीवान था वः यमुना नदी की एक धारा के पास रहता था, उसने अंग्रेजों के हाथों अभियोजन से बचने के लिए गंगाधर नेहरू का नाम अपनाया। नेहरू एक झूठा उपनाम है


Source : My India My Glory

Credits : Debal Dev Basu


Kashish

Tags

Related Articles

FOR DAILY ALERTS
 
FOR DAILY ALERTS
 
Close