अभिमतसैन्य सुरक्षा

एक अमेरिकन द्वारा अद्भुत विश्लेषण!!! यदि कोई देश भारत के खिलाफ युद्ध की घोषणा करता है तो क्या अमेरिका भारत की मदद करेगा?

3K Shares

 

भारत ऐसा देश है, जिसके साथ, अन्य राष्ट्र उलझना पसंद नहीं करेंगे| यहां तक ​​कि एक महाशक्तिशाली देश भी  भी भारत के साथ उलझने से पहले सैकड़ों बार सोचेगा|ऐसी स्थिति में सब के मन में एक प्रशन जरुर उत्पन्न होगा की यदि भारत के खिलाफ युद्ध घोषित होता है तो अमेरिका किस देश का समर्थन करेगा?

क्या अमेरिका भारत के खिलाफ युद्ध घोषित करेगा?

सबसे पहले, तो मैं ये बताना चाहूँगा की संयुक्त राज्य अमेरिका कभी भी भारत के खिलाफ हमला करने की हिम्मत नहीं करेगा|पूरी दुनिया जानती है की समय के साथ साथ भारत और अमरीका के बीच मित्रता बड़ रही है| अमरीका के पास भारत के खिलाफ युद्ध घोषित करने का कोई कारण नहीं है|इससे स्पष्ट है की अगर कोई देश भारत के खिलाफ युद्ध घोषित करता है तो अमरीका भारत के साथ होगा,भारत के पक्ष में होगा|अब इस बात का विश्लेषण करते है की ऐसे कोन से देश है जो भारत के खिलाफ युद्ध घोषित करने की हिम्मत कर सकते है|

भारत के खिलाफ अन्य देशों द्वारा युद्ध घोषित करने की क्या संभावनाएं है?

रूस भी भारत की तरह एक शक्तिशाली राष्ट्र है लेकिन रूस दशकों से भारत का दोस्त है और मैं अपने सपनों में भी कल्पना नहीं कर सकता की रूस भारत के खिलाफ युद्ध की घोषणा कर सकता है|

वर्तमान में एक और शक्तिशाली राष्ट्र है चीन। यह एक ऐसा राष्ट्र है जो दूसरे देश के क्षेत्रफल में प्रवेश करता हैऔर यह दावा करता है की वो उसका शेत्र है| परंतु भारत ने इस दुष्ट देश की इस आदत को तोड़ दिया है। क्या चीन कभी ये भूल सकता है कि भारत ने उसे किस तरह डॉकलाम से दूर कर दिया था| डॉकलाम विवाद लगभग 2 महीने से अधिक चला लेकिन चीन भारत को एक कदम भी पीछे न धकेल सका| डॉकलाम विवाद से पहले दुनिया एक गलत धारणा में थी की चीन भारत को दबा सकता है|अगर चीन भारत के खिलाफ युद्ध घोषित कर भी देता   को लगाया तो संयुक्त राष्ट्र अमेरिका भारत का समर्थन करने के लिए अपने सैनिकों को भेज देता|पर अब संयुक्त राष्ट्र अमेरिका अपने सैनिकों को नही भेजेगा|इसका कारण निसंदेह साफ़ है| अब भारत अकेला ही चीन की रीढ़ को तोड़ने में समक्ष है|

पहली बार इस बार ग्रेट ब्रिटेन ने आंतरिक न्यायालय ने न्यायाधीशों के चुनाव में हार का स्वाद चखा है| जैसे ही भारतीय न्यायाधीश श्री भंडारी को मजबूत समर्थन मिला तो ब्रिटेन के पास अपने कदम पीछे करने के इलावा कोई और चारा नही रहा और उसने द्वारा किये हुए नामांकन को वापिस ले लिया| युद्ध की बात तो भूल जाओ भारत ने तो ब्रिटेन को राजनयिक लड़ाई में ही बहुत आसानी से हरा दिया|

फ्रांस, इस राष्ट्र के पास भी भारत के खिलाफ युद्ध की घोषणा करने का कोई कारण नहीं है

जापान क्या यह राष्ट्र भारत पर हमला कर सकता है ? नही बल्कि जापान तो उल्टा भारत के साथ मिलकर उसके दुश्मनों का खात्मा कर देगा|

जर्मनी, भूटान, बांग्लादेश, म्यांमार, ये सभी देश भी भारत के दुश्मन बनने की बजाए उसके दोस्त बनना चाहेंगे|

अगर पाकिस्तान भारत के खिलाफ युद्ध की घोषणा करता है तो?

पाकिस्तान एकमात्र ऐसा राष्ट्र है जो भारत के खिलाफ युद्ध की घोषणा करने को उत्सुक्त है|पर मैं आपको बताना चाहूँगा ये पाकिस्तान का आतम दाह होगा वो अपनी मौत को खुद बुलावा दे रहे है|जनवरी 1 को  राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प ने घोषित किया था की अमेरिका अब पहले की तरह मुरखता करते हुए पाकिस्तानियों को फंड नही करेगा|इस आतंकवादी देश के पास तो अपने आतंकवादियों को खाने के लिए देने के लिए कुछ नही है भारत के खिलाफ युद्ध तो भूल ही जाओ|

अगर पाकिस्तान ऐसा गलत निर्णय लेता भी है तो अमेरिका भारत के साथ खड़ा होगा और यहाँ तक की भारत और पाकिस्तान के बीच समझोता कराने की कोशिश करेगा जिससे युद्ध को टाला जा सके|

अगर फिर भी पाकिस्तान युद्ध घोषित करता है  तो हम भारत का साथ देंगे हम वो सब करेंगे जो इस तरह के प्रतिबद्धता को रोकने के लिए आवश्यक है,यहाँ तक की अगर इसमें पाकिस्तान के शासन को बदलने में व्यवस्था शामिल है| इसलिए नहीं कि भारत को सुरक्षा की जरूरत है बल्कि हम पाकिस्तान को उसके खुद से ही बचाएंगे।

जॉन काटे

3K Shares
Source
Post Card
Tags

Related Articles

Close