राजनीति

डसॉल्ट एविएशन के सीईओ एरिक ट्रैपियर ने राहुल गांधी के राफेल पर फैलाए गये प्रत्येक झूठ को किया खारिज! जांच के लिए भी दी खुली चुनौती

985 Shares

इकनोमिक टाइम्स की रिपोर्ट के मुताबिक डसॉल्ट एविएशन के सीईओ एरिक ट्रैपियर ने कांग्रेस अध्यक्ष द्वारा फैलाए गये प्रत्येक झूठ को खारिज कर दिया है और हुए जांच के लिए खुले तौर पर राफेल सौदे की जांच को लेकर चुनौती दी है।

राहुल गांधी द्वारा फैलाये गये झूठों की लड़ी

झूठ 1: राफेल सौदे के लिए रिलायंस डिफेंस को 30,000 करोड़ रुपये का ऑफसेट दिया गया है।
हकीकत: रिलायंस डिफेंस को केवल 850 करोड़ रुपये ऑफसेट मिलेगा। रिलायंस और डसॉल्ट के संयुक्त उद्यम के अनुसार, रिलायंस ने पूंजीगत निवेश का 51% और डसॉल्ट ने 49% योगदान दिया था। डसॉल्ट सीईओ ने कहा कि वर्तमान में पूंजी निवेश 70 करोड़ रुपये है और योजना इस आंकड़े को 850 करोड़ रुपये तक अपग्रेड करना है और जो झूठे बड़े आंकड़े फैलाये जा रहे हैं उनका कोई वजूद नही है|

झूठ 2: रिलायंस को भागीदार के रूप में चुनने के लिए सरकार द्वारा डसॉल्ट पर दबाव डाला गया था
हकीकत: डसॉल्ट सीईओ ने कहा, “बिल्कुल कोई दबाव नहीं था। रक्षा खरीद नीति के नियम भी कहते हैं कि ऑफ़सेट पार्टनर की पसंद ठेकेदार से संबंधित है। हम 2011-12 में रिलायंस के साथ जुड़े। हम लंबे समय से रिलायंस के साथ बातचीत कर रहे हैं। मैं यह स्पष्ट करना चाहता हूं कि डसॉल्ट एविएशन ने अम्बानी के साथ भागीदारी इसलिए की क्योंकि अंबानी एक बहुत सम्मानजनक परिवार हैं। दोनों भाई और उनकी मां भारत में प्रसिद्ध हैं। हम एक परिवार की स्वामित्व वाली कंपनी हैं और हम किसी अन्य परिवार की स्वामित्व वाली कंपनी के साथ सहज महसूस करते हैं।

झूठ 3: भारत ने 36 राफेल जेटों के लिए गए अनुबंध के लिए भुगतान पहले किए गए भुगतान की तुलना में बहुत अधिक किया है?
हकीकत: सीईओ ने कहा कि भारत को 36 जेट विमानों के लिए बेहतर सौदा मिला है| नए सौदे ने वास्तव में लागत को 9% तक कम कर दिया है

डसॉल्ट सीईओ ने न केवल विनिर्माण क्षमताओं बल्कि डिजाइन और विकास को विकसित करके भारत के साथ संबंधों को गहरा बनाने में अपनी रूचि व्यक्त की। उन्होंने राफेल सौदे से संबंधित भारत में प्रचारित विवाद पर अपनी उदासी भी व्यक्त की।

कांग्रेस पार्टी केवल सत्ता की भूखी है। पार्टी का एकमात्र उद्देश्य सत्ता में आना है और इस तरह झूठ फैलाकर पार्टी और उसके अध्यक्ष ये भी नहीं सोचते कि वह कैसे अंतरराष्ट्रीय स्तर पर देश को अपमानित और देश से संबंधों को कमजोर कर रहे है। कई बार अपने झूठे दावों के लिए अपमानित होने के बावजूद भी कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी अपने स्वार्थी राजनीतिक उद्देश्यों को पूरा करने के लिए लगातार राफेल सौदे पर झूठ फैल रहे है|


Source : Economic Times

985 Shares
Tags

Related Articles

FOR DAILY ALERTS
 
FOR DAILY ALERTS
 
Close