अर्थव्यवस्थाराजनीति

पीएम मोदी सरकार के नाम एक और बड़ी कामयाबी! 25 प्रभावशाली अमेरिकी विधायकों ने डोनाल्ड ट्रम्प को भारत के लिए जीएसपी लाभों को समाप्त नहीं करने को कहा

जब से मोदी सरकार सत्ता में आई है, भारत ने राष्ट्रीय स्तर के साथ-साथ अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर ऊंचाइयों को छूआ है। दुनिया ने भारत को अब एक अलग नज़र से देखना शुरू कर दिया है। अब भारत को ‘सांपों और सपेरों का देश’ नहीं बल्कि विश्व शक्ति माना जाता है| आज मोदी जी ने देश को नेहरु- गाँधी द्वारा दिखाई गयी छवि से बहुत ऊपर उठा दिया है

पीएम मोदी सरकार के नाम एक और बड़ी कामयाबी में अब 25 प्रभावशाली अमेरिकी विधायक भारत के पक्ष में खड़े हुए हैं। 25 अमेरिकी कांग्रेसियों ने ट्रम्प की अगुवाई वाली सरकार को भारत के साथ 60 दिनों के नोटिस की समाप्ति के बाद जीएसपी (GSP) प्रोग्राम को समाप्त नहीं करने की चेतावनी दी। उन्होंने कहा इससे भारत में अपने निर्यात का विस्तार करने की मांग करने वाली कंपनियां प्रभावित हो सकती हैं

सामान्यीकृत प्रणाली वरीयता (जीएसपी) सबसे बड़ा और सबसे पुराना अमेरिकी व्यापार वरीयता कार्यक्रम है और इसे नामित लाभार्थी देशों के हजारों उत्पादों के लिए शुल्क मुक्त प्रवेश की अनुमति देकर आर्थिक विकास को बढ़ावा देने के लिए बनाया गया है। राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प ने एक महीने पहले घोषणा की कि अमेरिका ने भारत के पदनामों को जीएसपी कार्यक्रम के तहत लाभकारी विकासशील देश के रूप में हटाने का इरादा किया है। 60 दिन की नोटिस अवधि कल समाप्त हो गई। लेकिन अमेरिकी कांग्रेसी भारत के समर्थन में आ गए हैं और अमेरिकी सरकार को चेतावनी दी है कि वह भारत को तरजीही व्यापार लाभ की समाप्त न करें, क्योंकि इससे अमेरिका फर्मों को नुकसान होगा|

जीएसपी के तहत भारत के लिए शुल्क मुक्त उपचार पर भरोसा करने वाली अमेरिकी कंपनियों को नए करों में सालाना करोड़ों डॉलर का भुगतान करना होगा। व्यापारिक मुद्दों के अलावा भी अमेरिका को कई मुश्किलों का सामना करना पढ़ेगा, इन अमेरिकी फर्मों में काम करने वाले नागरिकों को वेतन में लाभ हानि का सामना करना पड़ेगा और साथ ही उनकी नौकरी भी खो सकती है। कांग्रेसियों ने इस बात को भी सामने लाया कि भारत चुनाव प्रक्रिया से गुजर रहा है और इसलिए सरकार के लिए तुरंत अमेरिका के नोटिस पर जवाब देना मुश्किल है। 26 सांसदों ने ट्रम्प सरकार को उचित प्रतिक्रिया प्रदान करने के लिए भारत सरकार को कुछ और समय प्रदान करने के लिए कहा है और कहा तब तक नई सरकार भी आ जायेगी|

उन्होंने कहा अमेरिका के निर्यात के लिए नए बाज़ारों को हासिल करने के लिए भारत के साथ निरंतर वार्ता ही एकमात्र तरीका है।इससे साफ जाहिर होता है कि आज भारत पीएम मोदी के अधीन कहां पहुंच गया है। सभी राष्ट्र भारत के महत्व को समझते हैं। वे जानते हैं कि भारत के साथ संबंध खराब करना उनके लिए अच्छा नहीं होगा। यह भारत के लिए एक बड़ी कूटनीतिक जीत है। अमेरिकी सीनेट में भारत की कूटनीतिक जीत स्पष्ट रूप से दिखाई दे रही है। यह उन तमाम लोगों के मुंह पर तमाचा है, जो पीएम मोदी से लगातार उनकी विदेश यात्राओं पर सवाल करते हैं। यह केवल पीएम मोदी की विदेश यात्राओं और उनके समर्पित प्रयासों का परिणाम है


Kashish

Tags

Related Articles

FOR DAILY ALERTS
 
FOR DAILY ALERTS
 
Close