देशभक्तिसैन्य सुरक्षा

युवा पीड़ी का भविष्य उज्जवल बनाने के लिए मोदी सरकार की एक और पहल!!! कुल 10 लाख युवाओं को नेशनल यूथ एमपावरमेंट स्कीम (N-YES) नामक नई योजना के तहत प्रशिक्षण देने का लक्ष्य

90 Shares

वर्तमान समय के परिदृश्य में, सरकार ने युवाओं के लिए बहुत से कदम उठाये है जिससे देश की आने वाली पीड़ी का भविष्य और उज्जवल हो सके| अपनी इसी पहल को ज़ारी रखते हुए और  युवाओं को अधिक जिम्मेदार बनाने और उनमे अनुशासन और राष्ट्रवाद की भावना स्थापित करने के लिए, अब सरकार नेशनल यूथ एमपावरमेंट स्कीम (N-YES) नामक एक नई योजना का प्रस्ताव लेकर आई है। इस योजना के अंतर्गत युवाओं को सैन्य प्रशिक्षण देने का सरकार का उद्देश्य है|सरकार ने कुल 10 लाख युवाओं को प्रशिक्षण देने का लक्ष्य रखा है जिसमें पुरुषों और महिलाओं दोनों शामिल होंगे।

सरकार इस ट्रेनिंग प्रोग्राम को डिफेंस, पैरामिलिट्री फोर्स और पुलिस की नौकरी के लिए अनिवार्य बनाने पर भी विचार कर रही है| इस ट्रेनिंग के लिए सरकार कक्षा 10 और 12 से पास हुए छात्रों, जिन्होंने कॉलेज में एडमिशन लिया है, उन्हें 12 महीने के प्रशिक्षण कार्यक्रम के लिए एक छात्रवृत्ति भी प्रदान की जाएगी| यह प्रस्ताव प्रधान मंत्री मोदी ने खुद ही आगे रखा था तांकि देश के युवाओं को सशक्त किया जा सके|

इंडियन एक्सप्रेस की रिपोर्ट के अनुसार प्रधानमंत्री कार्यालय (PMO) ने इस प्रस्तावित योजना पर विचार करने के लिए जून के आखिरी सप्ताह में बैठक बुलाई थी. इसमें डिफेंस मिनिस्ट्री, डिपार्टमेंट ऑफ यूथ अफेयर्स और मानव संसाधन मंत्रालय के प्रतिनिधि शामिल हुए थे| सूत्रों के मुताबिक इस बैठक के दौरान कुछ अधिकारियों ने N-YES के तहत आरक्षण देने के मुद्दे को उठाया, तो किसी ने इस योजना की बजाय राष्ट्रीय कैडेट कोर (NCC) और एनएसएस का विस्तार करने व मजबूत करने की बात कही|

इस योजना के तहत युवाओं को न केवल सैन्य प्रशिक्षण बल्कि वोकेशनल, आईटी स्किल और आपदा प्रबंधन का भी प्रशिक्षण दिया जाएगा| इसके अलावा योग, आयुर्वेद और प्राचीन भारतीय दर्शन के मूल्यों की जानकारी व ट्रेनिंग दी जाएगी| ग्रामीण क्षेत्रों में युवाओं और महिलाओं को विशेष रूप से लक्षित करके इस योजना के बारे में निर्णय लिया गया है|इस योजना को वित्त पोषित करने के लिए, यह प्रस्तावित किया गया था कि सरकार एनसीसी, नेशनल सर्विस स्कीम (एनएसएस), कौशल विकास मंत्रालय और मनरेगा फंड के मौजूदा बजट का उपयोग कर सकती है|

सैन्य प्रशिक्षण कार्यक्रम का प्रस्ताव ऐसे समय में प्रस्तावित किया गया है जब विपक्ष ने युवाओं के लिए पर्याप्त और उचित नौकरी के अवसर न पैदा करने के लिए केंद्र सरकार पर हमेशा हमला किया है।इससे विपक्ष के सवालों का जवाब भी उन्हें मिल जाएगा|

हालांकि, यह पहली बार नहीं है कि पीएमओ ने युवाओं में अनुशासन और राष्ट्रवाद को बढ़ावा देने के विषय पर ध्यान केन्द्रित किया है| पीएमओ ने पिछले साल एचआरडी मंत्रालय के तहत स्कूल शिक्षा विभाग को सैन्य विद्यालयों (सैनिक स्कूल) के तत्वों को शामिल करने की सलाह दी – जिसका उद्देश्य नियमित स्कूलों में भी अनुशासन, शारीरिक फिटनेस और देशभक्ति को बढ़ावा देना है|मंत्रालय नवोदय विद्यालयों में भी सैनिक स्कूल सुविधाओं को शुरू करने पर काम कर रहा है।

इस योजना से युवाओं में राष्ट्रवाद, अनुशासन और आत्मसम्मान का बढ़ावा होगा, जिससे भारत को विश्वगुरु बनाने और पीएम मोदी के न्यू इंडिया 2022 विजन को हासिल करने में मदद मिलेगी|


Source: Indian Express

 

90 Shares
Tags

Related Articles

FOR DAILY ALERTS
 
FOR DAILY ALERTS
 
Close